CAA Kya Hai: मुसलमान ने क्यों किया था CAA कानून का विरोध अब जाने संपूर्ण जानकारी?

Share This Article

CAA Kya Hai: मोदी सरकार ने लोकसभा चुनावों के नजदीक आने पर बड़ा निर्णय लेते हुए CAA कानून को पूरे देश में लागू कर दिया है। जानें पूरी जानकारी नागरिकता संशोधन अधिनियम देश भर में चर्चा का विषय बना हुआ था। मुस्लिम समुदाय के लोग CAA कानून का विरोध कर रहे थे। लेकिन सोमवार के दिन केंद्र सरकार के द्वारा CAA कानून को पूरे देश भर मे लागू कर दिया गया.

WhatsApp Group Join Now
Instagram Group Join Now

इस कानून के लागू होने पर मुस्लिम समुदाय के लोग शरणार्थी नागरिकता पा सकेंगे. इसके लिए उनको केंद्र सरकार द्वारा जारी किए गए पोर्टल पर आवेदन करना होगा. मोदी सरकार ने लोकसभा चुनाव को देखते हुए यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। 

CAA क्या है?     

सीएए यानी नागरिकता संशोधन अधिनियम (Citizenship Amendment Act) तीन पड़ोसी देशों (बंग्लादेश, अफगानिस्तान और पाकिस्तान) से आए शरणार्थियों को नागरिकता देगा। 2014 के दिसंबर से पहले भारत में आने वाले छह धार्मिक अल्पसंख्यकों (हिंदू, बौद्ध, सिख, जैन, पारसी और ईसाई) को नागरिकता मिलेगी।

यह भी पढ़ें:- Anganwadi Supervisor Bharti 2024:बिना परीक्षा के हो जाएंगे सुपरवाइजर यहां करें आवेदन?

RPF Constable SI, Bharti 2024:पदों के लिए [4660] भर्ती जल्द ही यहां करें आवेदन

Indian Coast Guard Assistant Commandant–12वीं पास भर्ती जल्द करें आवेदन 2024

मुख्यमंत्री कन्या विवाह योजना 2024। शादी करते ही मिलेगा ₹51000 लाभ एवं विशेषताएं?

मुस्लिम ने क्यों किया था CAA कानून का विरोध?

CAA कानून लागू होने के बाद मुस्लिम समाज के लोगों ने इन संगठनों को भारी विरोध प्रकट किया था। देश के कई हिस्सों मे विरोध प्रदर्शन किया गया था। CAA कानून अब लागू होने के बाद मुस्लिम समाज और संस्थाओं ने फिर से इसका विरोध करना शुरू किया है। इस कानून के खिलाफ कई मुस्लिम नेताओं ने बयान देना शुरू कर दिया है।   

मुस्लिम समाज का मानना है कि इस कानून से मुस्लिमों को बाहर रखना गलत है। यह समानता के अधिकार के खिलाफ है और इससे देश की एकता और अखंडता खराब होगी। कुछ मुस्लिम संगठनों का कहना है कि CAA के बहाने मुसलमानों को परेशान किया जा सकता है। साथ ही, कई मुस्लिम संस्थाओं का कहना है कि CAA पूर्वोत्तर राज्यों का नाम बदल सकता है।

राष्ट्रपति ने CAA पर दी मंजूरी?

11 दिसंबर 2019 को सीएए भारतीय संसद में पारित हुआ था 125 लोग इनके पक्ष में वोट दिये थे, जबकि 105 लोग इनके खिलाफ वोट थे। 12 दिसंबर को इस विधेयक को राष्ट्रपति ने मंजूरी दे दी थी। 

Leave a Comment